+91-11-41631787
आदित्य के हास्य तीर
Select any Chapter from
SELECT ANY CHAPTER
आदित्य के हास्य तीर Voice and Text
     
जिए जा रहा हूँ मैं
ISBN:

दाल-रोटी दी तो दाल-रोटी खा के सो गया मैं
आँसू दिये तूने आँसू पिए जा रहा हूँ मैं।

दुख दिए तूने मैंने कभी न शिक़ायत की
जब सुख दिए सुख लिए जा रहा हूँ मैं।

पतित हूँ मैं तो तू भी तो पतित पावन है
जो तू कराता है वही किए जा रहा हूँ मैं।

मृत्यु का बुलावा जब भेजेगा तो आ जाउंगा
तूने कहा जिए जा तो जिए जा रहा हूँ मैं।