+91-11-41631787
राम राज्य
Select any Chapter from
     
शुभकामना (दो)
ISBN: 81-7220-092-7

 

शुभकामना (दो) 

 

 

आज सूरज

एक नए अन्दाज में दिखेगा

इन नयनों को

और महसूस होगा

कि

सूरज के खिलने के साथ

तुम्हारे जीवन का एक सोपान

और ऊपर उठकर

निखर आया है,

- एक नया सन्देश लिए

यह दिन आया है

कि

सहज बीतती जिन्दगी में

खुशी के झोंको संग

मधुर सुगन्ध छोड़ गई है

समीर

ढेर-सी खुशियाँ तुम्हारे नाम करके!